लक्ष्य कैसे निर्धारित करें और उसे जल्दी प्राप्त कैसे करें?

हेलो दोस्तों
 आप सभी का इसमें आर्टिकल पर स्वागत है।
हर किसी को जीवन में सफल होने के लिए अपना एक लक्ष्य निर्धारित करना होता है और उन्हीं पर एक काम करना होता है,  आज हम जानेंगे लक्ष्य कैसे निर्धारित करें? और अपना जीवन को कैसे सफल बनाएं?

क्या करे क्या नहीं:- जब हम छोटे होते हैं तो दुनिया की कोई भी काम हो वह सारा काम करना अच्छा लगता है क्रिकेट खेलना भी अच्छा लगता है हॉकी खेलना भी अच्छा लगता है पेंटिंग करना भी अच्छा लगता है कॉमेडी करना भी अच्छा लगता है धीरे-धीरे हम बड़े होते हैं तू हमें ख्याल आता है मुझे एक कोई लक्ष्य निर्धारित करना होगा कोई एक नीव पकड़ना होगा जिसे हम आगे तक जा सकते हैं।


ऐसे चुने:- आपको लगता है कि आप हर एक काम कर लेंगे लेकिन आपको किसी एक काम में रुचि लगाना आवश्यक है आपको किसी एक काम में रुचि लगाने के लिए आपको खुद व खुद से बातें करना होगा। एकांत में  बैठ के  आपको  उन सभी कामों में से किस काम में  आप सबसे अधिक रुचि से उनको करते हैं  यह मन में बैठा लेते हैं  तो आपके अंदर से खुद-ब-खुद आवाज आएगी ।



जब आप अपना लक्ष्य निर्धारित कर लेते हैं तो अब उसे पूरा कैसे करें उनके लिए क्या करना होगा तो जानिए अनेक महापुरुषों ने बताए हैं यदि आप अपने लक्ष्य तक जानना चाहते हैं तो आपको उन्हें छोटे-छोटे भागों में विभाजित करना होगा  और उन छोटे-छोटे भागो को पूरा कीजिए आप अपने आप उस मुकाम तक पहुंच जाएगा।



लक्ष्य तक पहुंचने के लिए आपको उन लक्ष्यों पर काम करना होगा उनके प्रति रुचि जगाना होगा आपको हमेशा वह लक्ष्य दिखाई पड़े हमें हर हाल में करना है और ऐसा ना कि आप उन्हें 60 साल उम्र करें आप उनके लिए एक समय सीमित कीजिए मुझे इतने ही दिनों में से पूरा करना है।



जवाब लक्ष्य काम करते होंगे तो मन में ऐसा विचार आता होगा आज सो लेते हैं फिर कल कर लेंगे लेकिन हमेशा एक बात याद रखना सिर्फ आप सो रहे हो लेकिन कोई ना कोई रात में जाकर भी काम कर रहे होंगे एक दिन ऐसा भी समय आएगा वह आप से आगे निकल जाएगा।


संघर्ष के रास्ते में लोगों के बहुत सारे ताने सुनने पड़ते हैं अक्सर लोग आपको पीछे खींचने का प्रयास करेंगे लेकिन आप कभी मत सुनना किसी का बस अपने लफ्जों की तरफ बढ़ते रहना सफलता पाने के लिए अनेकों बार असफल भी होना पड़ता है लेकिन और सफलता पाने के बाद जो सफलता मिलती है वह बहुत ही आनंददायक होती है। गिरता वही है जो चलता है।



लेकिन तुम सपने बहुत बड़े देखोगे लक्ष बहुत बड़ा रखोगे उस पर काम ही नहीं करोगे तो वह लक्ष्य किसी काम का नहीं। जब कभी मन में आए मुझसे नहीं होगा तो खुद से कहना लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

जो लोग आज तुझे देखकर जग रहे हैं मजाक उड़ा रहे हैं याद रखना जब तुम अपने लक्ष्य तक पहुंच जाओगे वही लोग तेरे पीछे बढ़ाई भी करेंगे लड़का बहुत अच्छा था बहुत मेहनती था।


Post a Comment

नया पेज पुराने